Shayari

Best 230+ Bharosa Shayari In Hindi | भरोसा शायरी हिंदी में

Life में हर इंसान किसी न किसी पर bharosa करता है । इसलिए आज हमने bharosa shayari या bharosa todna shayari लेके आए है। क्यों कभी न कभी आपका bharosa todata जरूर है ।

ज़िन्दगी बहुत ही सुन्दर है लेकिन उसमे बहुत सारे ऐसे लोग है जिसने हमे सोच समझ कर भरोसा करना चहाइए । क्युकी कब वो हमारे साथ खेल कर दे हमे समझ ही नही आता और फिर सोचते है लोग ऐसे क्यूं करते है ।

हर इनसान को एक बार परखना बहुत ज्यादा जरूर है। क्युकी आपको वास्तविकता होनी बहुत आवशयक है । इसलिए अच्छे लोगों से दोस्ती करे , क्यों की जब हमारा कोई bharosa todta है हम उसके बाद कुछ भी समझ नही पाते है ।

इसलिए अगर आपके आस पास भी ऐसे लोग है और आप उन्हें ⚠️ करना चाहते है तो आप हमारी shayari Hindi.com की shayari को अपने स्टेट्स पर उसको बता सकते है । तो चलिए पढ़ते है। Bharosa todna shayari या bharosa shayari in Hindi।

Bharosa shayari

 

बहुत ख़ामोशी से टूट गया,

वो एक भरोसा जो उस पे था।

Bharosa shayari

Bahut khamoshi se tut gaya,

wo ek bharosa jo us pe tha..!!

 

कोई भरोसे के लिए रोता है,

कोई भरोसा करके रोता है।

Bharosa shayari

koi bharose ke liye rota hai ,

koi bharosa karke rota hia ..!!

 

वो झूठ बोल रहा था बड़े सलीक़े से

मैं एतिबार न करता तो और क्या करता ।।

Bharosa shayari

Wo jhooth bol raha tha bade salike se ,

Main etbar na karta to aur kya karta..!!

 

ऐ मुझ को फ़रेब देने वाले

मैं तुझ पे यक़ीन कर चुका हूँ ।।

Bharosa shayari

E mujh ko fareb dene wale,

main tujh pe yakin kar chuka hoon..!!

 

Bharosa Shayari In Hindi

 

भरोसा मत करना इस दुनिया के लोगो पर,

मुझे तबाह करने वाले मेरे बहुत अजीज थे।।

Bharosa shayari

bharosa mat karna is duniya ke logon par,

mujhe tabah karne wale mere bahut ajij the,!!

 

लोग बदल जाते हैं सच है,

मैंने देखा है भरोसा करके.।।

Bharosa shayari

Log badal jate hai sach hia ,m

maine dekha hai bharosa karke..!!

 

हैं बाशिंदे इसी बस्ती के हम भी

सो ख़ुद पर भी भरोसा क्यों करें हम ।।

Bharosa shayari

Hai bashinde isi basti ke hum bhi ,

so khud par bhi bharosa kyun kare hum..!!

 

belief Shayari Hindi

 

मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं,

गलती मेरी ही थी जो मैंने इतना भरोसा किया.।।

Bharosa shayari in hindi

Mujhe kisi se koi shikayat nahi ,

galati meri hi thi jo mene itna bharosa kiya..!!

 

प्यार में तो बस भरोसा होना चाहिए,

शक तो पूरी दुनिया करती हैं ।।

 

Pyar main to bas bharosa hona chahiye,.

shak to puri duniya karti hai ..!!

 

भोली बातों पे तेरी दिल को यक़ीं

पहले आता था अब नहीं आता ।।

 

Bholi baton pe teri dil ko yakin

pahle aata tha ab nahi aata..!!

 

Shayari On belief

 

तिरे वादे पर जिए हम तो ये जान झूट जाना

कि ख़ुशी से मर न जाते अगर ए’तिबार होता ।।

 

Tere wade par jiyhe hum to ye jan jhooth jana,

ki khushi se mar na jate agar etbar hota..!!

 

ज़िन्दगी में सबसे ज़्यादा दर्द दिल टूटने पे नहीं,

भरोसा टूटने पे होता है. ।।

 

Zindgi me sabse jyada dard dil tutne pe nahi ,

bharosa tutne pe hota hai .!!

 

आज खुद से एक वादा ऐसा भी करना पड़ा,

खुल कर रोना चाहा, मगर मुस्कुराना पड़ा ।।

 

aaj khud se ek wada aisa bhi karna pada,

khul kar rona chaha, magar muskurana pada..!!

 

ग़ज़ब किया तिरे वअ’दे पे ए’तिबार किया

तमाम रात क़यामत का इंतिज़ार किया ।।

 

Gajab kiya tere wade pe etbar kiya,

tamam raat kayamat ka intezar kiya..!!

 

Shayari On Bharosa Todna

 

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

तालों की ईजाद से पहले सिर्फ़ भरोसा होता था ।।

 

Deeware chhoti hoti thi lekin parda hota tha,

talon ki irjad se pahle sirf bharosa hota tha.. ।।

 

दिल को तिरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है

और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता ।।

 

dil ki teri chahat pe bharosa thi bahut hai ,

aur tujh pe bichad jane ka dar bhi nahi jata.!!

 

मैं उस के वादे का अब भी यक़ीन करता हूँ

हज़ार बार जिसे आज़मा लिया मैं ने ।।

 

Main us ke wade ka ab bhi yakin karta hoon,

hajar bar jise aajma liya main ne..।।

 

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे,

कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे ।।

 

Samundar ki laharon par bharosa kar baithe,

kal wo duba kar hume kinara kar baithe..!!

 

Bharose Wali Shayari

 

आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन हम ने ए’तिबार किया ।।

 

Aadatan tum ne kar diya wade

aadatan hum ne etbar kiya..।।

 

माफ़ करना मुश्किल है,

लेकिन फिर से भरोसा करना

सबसे मुश्किल है ।।

 

maad karna muskil hai,

lekin phir se bharosa karna,

sabse muskil hai ..!!

 

है दुख तो कह दो किसी पेड़ से परिंदे से

अब आदमी का भरोसा नहीं है प्यारे कोई ।।

 

Hai dukh to kah do kisi ped se parinde se,

ab aadami ka bharosa nahi hai pyare koi ..।।

 

हिम्मत, ताकत, प्यार, भरोसा जो है सब इनसे ही है

कुछ नम्बर हैं जिन पर मैंने अक्सर फोन लगाया है ।।

 

Himmt , takat pyar, bharosa jo hai sab inse hi hai ,

kuch number hai jin par mene aksar phone lagaya hai ..!!

Kisi Pe Bharosa Mat Karna Status

 

मिरी ज़बान के मौसम बदलते रहते हैं

मैं आदमी हूँ मिरा ए’तिबार मत करना ।।

 

meri jaban ke mausam badalte rahte hai k,

main admi hoon mera etbar mat karna..!!

 

झूट पर उस के भरोसा कर लिया

धूप इतनी थी कि साया कर लिया ।।

 

jhooth par us ke bharosa kar liya,

dhup itni thi ki saya kar liya..!!

 

मुसाफ़िरों से मोहब्बत की बात कर लेकिन

मुसाफ़िरों की मोहब्बत का ए’तिबार न कर सके ।।

 

musafiron se mohbat ki bat kar lekin,

musafiron ki mohbat ka etbar na kar sake..।।

 

Bharose Par Shayari

 

इश्क़ को एक उम्र चाहिए और

उम्र का कोई ए’तिबार नहीं ।।

 

ishq ko ek umr chahiye aur ,

umr ka koi etbar nahi l…।।

 

मैं अब किसी की भी उम्मीद तोड़ सकता हूँ

मुझे किसी पे भी अब कोई ए’तिबार नहीं ।।

 

main ab kisi ki bhi ummid tod sakta hoon,

mujhe kisi pe bhi ab koi etbar nahi ..।।

 

सुबूत है ये मोहब्बत की सादा-लौही का

जब उस ने वादा किया हम ने ए’तिबार किया ।।

 

Subut hai ye mohbat ki sada lohi ka,

jab us ne wada kiya hum ne etbar kiya…।।

 

Bharosa Tod Diya Shayari

 

यूँ न क़ातिल को जब यक़ीं आया

हम ने दिल खोल कर दिखाई चोट ।।

 

yoon na katil ko jab yakin aaya,

hum ne dil khol kar dikhai chot,, ।।

 

प्यार और भरोसा दो ऐसे पंछी हैं,

अगर इनमें से एक उड़ जाए तो,

दूसरा अपने आप उड़ जाता है ।।

 

Pyar aur bharosa do aise panchi hai ,

agar inme se ek ud jae to ,

dusra apne aap ud jata hai ..।।

 

रिश्ते दिल टूटने पर नहीं,

भरोसा टूटने पर बिखरते है ।।।

 

rishte dil tutne par nahi ,

bharosa tutne par bikharte hai ..!!

 

Bharosa todne wali shayari dosti

 

भरोसा कर लिया है मैंने तेरे झूठ पर भी,

तुझे खुदा जो माना है ।।

 

Bharosa kar liya hai mene tere jhooth par bhi ,

tujhe khuda jo mana hai ..!!

 

यूं तो हर गुनाह का कफ़ारा नहीं होता,

उठ जाए जो एक दफा भरोसा दुबारा नहीं होता ।।

 

yoon to har gunah ka kafara nahi hota,

uth jaye jo ek dafa bharosa dubara nahi hota..!!

 

खुद में काबिलियत हो तो भरोसा कीजिये साहिब,

सहारे कितने भी अच्छे हो साथ छोड जाते है ।।

 

khud se kabiliyat ho to bharosa kijiiye sahib,

sahare kitne bhi ache ho sath chhhod jate hia …!!

 

सब पर भरोसा है,पर कुछ नहीं हासिल है,

जिस तरफ पीठ करो,वहीं खड़ा कातिल है ।।

 

Sab par bharosa hai ,par kuch nahi hasil hia ,

jis taraf pith karo, wahi ,khada katil hai ..!!

 

Read More

Motivational quotes 

Good Morning LovE Quotes

Deep Sufi Quotes In Hindi

Bharosa shayari  [ trust meaning ] की एक बहतरीन पोस्ट आपको कैसी लगी हमे कॉमेंट करके ज़रूर बताएं और आशा है आपने इस पोस्ट को  पसंद किया होगा और उम्मीद है आप इस पोस्ट अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर share करेंगे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button