PoemShayari

Ek Shayari Likhi Hai By Munawar Faruqui : Best Munawar Faruqui Poetry 2024

Ek Shayari likhi hai बहुत ही प्यारी Poem है ! जिसने सबको दिल से पकड़ लिया है ! ये कविता मुनव्वर फारूकी द्वारा लॉक उप शो दौरान सुनाया गया था ! और वहां से बहुत ही ज्यादा पसंद आने लग गयी थी !

इसलिए आप लोगों के लिए सबसे लेके आये है जो की Ek Shayari likhi hai kabhi miloge to sunaunga है ! तो चलिए पढ़ते है !

Ek Shayari Likhi hai

Ek Shayari Likhi hai by Munawar Faruqui

 

एक शायरी लिखी है

कभी मिलोगी तो सुनाऊंगा

 

तेरी सीरत साफ शीशे की तरह

मेरे दामन में दाग हजारो है ,

 

तू नायाब किसी पत्थर की तरह

मेरा उठना बैठना बाजारों में है ,

 

तेरी मौजूदगी का इंटराम कर भी लूं

जब होगा रूबरू तो ये जज्बात कहा छुपाउँगा,

 

एक उम्र लेके आना

में खाली किताब लेके आऊंगा ,

 

तोड़ कर लाने के वादे नही

में अपनी कलम से सितारे सजाऊंगा ,

 

मेरी साबर की इंतहा पर शक कैसा

मेने तेरे आने जाने पे ता उम्र लिखी है ,

 

जमीन पे कोई खास नही मेरा

तू एक बार कुबूल कर में अपने गवाहों को आसमान से बुलाऊंगा

 

 

एक शायरी लिखी है

कभी मिलेगी तो सुनाऊंगा

 

कोइ रात गुजारी है इस अंधेरे में

तुम थोड़ासे नूर ले आओगे

 

तेरे तकिये गीले है आसुओ से

क्या तुम मुझहे अपनी गोद में सुलाओगे

 

सुना है बाग है तुम्हारे आंगन में

मेरे है हासिल बचपन को वो झूला दिखाओगे ,

 

मेने खोया है अपनी हर प्यारी चीज़ को

में अपनी किस्मत फिर से आउमाउंगा

 

एक शायरी लिखी है

कभी मिलेगी तो सुनाऊंगा

 

मुनावर फारूकी

 

Read More PoSt

 

Ek Shayari likhi hai in english

 

Ek shayari likhi hai

kabhi milogi to sunaunga ,

 

Teri seerat Saf Shishe Ki tarah

Mere Daman me Dag harazon Hai ,

 

Tu Nayab kisi patthar ki Tarah

Mera uthana Baithana Bazaron Mein Hai ,

 

Teri mojudgi ka enteraam kar bhi Lun

Jab Hoga Roobaruh To ye Jazbaat kaha Chhupaunga,

 

Ek Umr Leke Aana

Main Khali Kitab leke aaunga ,

 

Tod kar laane ke Wade nahi,

Main apni Kalam se Sitare Sajaunga ,

 

Meri Sabar ki Intehaa Par shak Kaisa

Mene tere aane jane Pe ta Umr Likhi hai ,

 

Jin Pe koi khas nahi Mera

Tu Ek Baar Qubool Kar Me Apne Gawahon

KO asaman se Bulaunga

 

Ek shayari likhi hai

Kabhi MiLogi To sunaunga ,,

 

 

kai Raat Gujari hai In Andhere me

Tum Thoda sa Nur Le aaoge ,

 

Mere Takiye gile hai Aasuo se

Kya tum mujhe Apni god se Sulaoge,

 

Suna Hai Bag hai tumhare Angan Me

Mere la Hasil Bachapan Ko Wo jhula Dikhaoge,

 

Mene khoya Hai Apni Har Pyari Chiz ko

Me Apni Kismt pHir bhi Ajamaunga ,

 

Ek Shayari Likhiu Hai

Kabhi Milegi to Sunaunga ,,!!

#Munawar Faruqui

 

हमे उम्मीद है आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आया होगी और आप को कोनसी लाइन सबसे ज्यादा पसंद आयी हमे नीचे कमेंट करके जरूर बताये और इस पोस्ट को और लोगों तक शेयर करे ! 

Related Articles

3 Comments

  1. Hello dear

    This is prakash barfa from India. We are interested in your website. So we want to know that are you want to sell your website?? And what price you are looking for?

    Tell us , we are waiting for your reply.

    Prakash barfa
    ( Rajasthan, India )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button