Shayari

Heart Touching Mirza Ghalib shayari in hindi

नमसाकर दोस्तों आज का हमारा पोस्ट heart touching mirza ghalib shayari in hindi के बारे में है  ।  इस पोस्ट में हमने एक बहत्रिन मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी का कलेक्शन तैयार किया है  ।  अगर आप भी मिर्ज़ा ग़ालिब के फैन है तो आपको ये पोस्ट ज़रूर पसंद आएगा ।
मिर्ज़ा ग़ालिब का नाम आज हर कोई जानता है । वो अपने शायरी के और शब्दों से खेलना जानते थे कैसे वो किसी भी बात को आने कम शब्दों में कह देते थे। उनकी लिखी हुई शायरी आज भी ग़ालिब के नाम  से बहुत फेमस है  । इंटेनेट पे देखा जाये लाखों लोग रोज़ाना इनकी शायरी पढ़ने के लिए सर्च करते है इसलिये हमने उन सभी को नज़र में रखते हुए Mirza ghalib ki shayari ka कलेक्श तैयार किया है ।

Mirza ghalib shayari in hindi

मैं नादान था, जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब,

यह न सोचा के एक दिन, अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी।

Mirza ghalib shayari in hindi

main nadan tha, jo wafa ko talash karta raha galib,

yah na soch ke ek din apni sans bhi bewafa ho jayegi ..!!

 

हम तो फना हो गए उसकी आंखे देखकर गालिब,

न जाने वो आइना कैसे देखते होंगे।

Mirza ghalib shayari in hindi

Hum to fana ho gaye uski ankhe dekhakar galib ,

na jane wo aaina kaise dekhte honge ..!!

Read More : Feeling Sorry shayari 

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान झूठ जाना,

कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।।।

Mirza ghalib shayari in hindi

Tere vade par jiye hum to yah jan jhooth jana,

kis khushi se mar jate , agar etbar hota…!!

 

heart touching Mirza ghalib shayari in hindi

 

बना कर फकीरों का हम भेस ग़ालिब,

तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते है।

Mirza ghalib shayari in hindi

Bana kar fakiron ka hum bhes galib,

Tamasha e ahal , e karam dekhte hai ..!!

 

Read More : Facebook Shayari Attitude 

 

Mirza Ghalib ki Shayari

 

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है,

वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता।

Mirza ghalib shayari in hindi

Hui muddat ki galib mar gaya par yaad aata hai ,

wo har ek baat par kahna ki yoon hota to kya hota..!!

 

ग़ालिब ने यह कह कर तोड़ दी तस्बीह,

गिनकर क्यों नाम लू उसका जो बेहिसाब देता है।

Mirza ghalib shayari in hindi

Galib ne yah kah kar tod di tasbih,

ginakar kyun naam lu uska jo behisab deta hai..!!

 

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’,

कि लगाए न लगे और बुझाए न बने!

Mirza ghalib shayari in hindi

ishq par jor nahi hai ye wo galib,

ki lagaye na lage aur bujhaye na bane..!!

 

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है,

बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है।।

Mirza ghalib shayari in hindi

Sadgi par us ke mar jane ki hasrat dil me hai,

Bas nahi chalata ki fir khanjar kaf e katil me hai..!!

 

Mirza ghalib shayari in hindi

 

सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब,

नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे।।

Mirza ghalib shayari in hindi

Siskiya leta hai vajud mera galib ,

nauch nauch kha gyai teri yad mujhe..!!

 

 

ज़िंदगी अपनी जब इस शक्ल से गुज़री,

हम भी क्या याद करेंगे कि ख़ुदा रखते थे।

Mirza ghalib shayari in hindi

Zindgi apni jab is shakal se gujari ,

hum bhi yad karenge ki khuda rakhte the ..!!

 

कहाँ मयखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज,

पर इतना जानते है कल वो जाता था के हम निकले!

Mirza ghalib shayari in hindi

Kaha maykhane ka darwaja galib aur kaha wise,

par itna jante hai kal wo jata tha ke hum nikle..!!

 

Mirza ghalib 2 line shayari in hindi

 

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’

तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है!

Mirza ghalib shayari in hindi

Tu ne kasam may kashi ki khai hai galib,

teri ksm ka kuch etibar nahi hai ..!!

 

देखिए लाती है उस शोख़ की नख़वत क्या रंग,

उस की हर बात पे हम नाम-ए-ख़ुदा कहते हैं!

 

dekhioye lati hai us shaukh ki nakhwat kya rang,

us ki har bat pe hum na e khuda kahte hai..!!

 

इनकार की सी लज़्ज़त इक़रार में कहाँ,

होता है इश्क़ ग़ालिब उनकी नहीं नहीं से!

 

Inkar ki si lajjat ikarar me kaha,

hota hai ishq galib unki nahi nahi se..!!

 

हो चुकीं ‘ग़ालिब’ बलाएँ सब तमाम,

एक मर्ग-ए-ना-गहानी और है!

Ho chuki galib balaye sab tamam,

ek marg e na gahani aur hai ..!!

 

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता,

डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता!

 

Na tha kuch to khuda tha kuch na hota to khuda hota,

duboya mujh ko hone se na hota main to kya hota..!!

 

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही,

मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही!

ishq mujh ko nahi wahshat hi sahi,

meri vahshat teri shoharat hi sahi.!!

 

ओहदे से मद्ह-ए-नाज़ के बाहर न आ सका,

गर इक अदा हो तो उसे अपनी क़ज़ा कहूँ!

 

aohde se mahad e naj ke bahar na aa saka,

gar ek ada ho to use apni kaja kahu..!!

 

न हुई गर मिरे मरने से तसल्ली न सही,

इम्तिहाँ और भी बाक़ी हो तो ये भी न सही!

 

Na hui gar mire marne se taslli na sahi,

imtiha aur bhi baki ho to ye bhi na sahi…!!

 

मैं बुलाता तो हूँ उस को मगर ऐ जज़्बा-ए-दिल,

उस पे बन जाए कुछ ऐसी कि बिन आए न बने!

 

Main bulata to hoon, us ko magar e jajba e dil,

us pe ban jaye kuch aisi ki bin aaye na bane..!!

 

Mirza ghalib love shayari in hindi

 

जाँ दर-हवा-ए-यक-निगाह-ए-गर्म है ‘असद’,

परवाना है वकील तिरे दाद-ख़्वाह का!

 

Ja dar hawa e yak nigah e garm hai asad,

parwana hai vakil tire dad khawah ka..!!

 

ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज,

शम्अ हर रंग में जलती है सहर होते तक!

 

Gam e hasti ka asad kis se ho juj marg ialaj,

shama har rang me jalati hai sahar hote tak..!!

 

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,

कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक!

 

aah ko chahiye ek umr asar hote tak,

kaun jita hai teri julf ke sar hote tak..!!

 

Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines

 

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,

दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।

 

isharat e katara hai dariya me fana ho jana,

dard ka had se gujrana hai dawa ho jaana…!!

 

हालत कह रहे है मुलाकात मुमकिन नहीं,

उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।

 

halat kah rhe hai mulakat mumkin nahi,

ummid kah rahi hai thoda intezar kar….!!

 

उम्मीद करते हैं आपको ये heart touching mirza ghalib shayari in hindi  पसंद आया होगा अगर पसंद आया है या आप उनके फैन है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर ज़रूर शेयर करे ताकि और लोगों तक ऐसी बेहतरीन शायरी पहुँच सके और आपको हमसे कोई बात करनी हो या कोई शिकायत हो तो आप हमे नीचे कमेंट या फिर कांटैक्ट उस पेज से भेज सकते है  ।

With Appkod, you can quickly design, test, and launch your app to reach a wider audience. Creating a mobile app can be a complex task, especially for those without technical expertise. Appkod simplifies this process by providing an intuitive platform for anyone to build their own app.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button